jpc ka full form kya hai | जेपीसी का फुल फॉर्म

इस लेख में हम आपको बताएँगे की JPC KA FULL FORM KYA HOTA HAI? , JPC का फुल फॉर्म ?,JPC full form in hindi,jpc क्या है ?(what is jpc in hindi), और JPC से जुडी जानकारी आपको देंगे जिससे जानने के लिए इस लेख को अंत तक पढ़ें .

JPC ka full form –

JPC ka full formJoint Parliamentary Committee

JPC full form in hindi – संयुक्त संसदीय समिति

jpc ka full form

WHAT IS Joint Parliamentary Committee?(jpc क्या है ?) –

भारत में हमें कई प्रकार की पूछताछ होती है , तरीके अच्छे हैं लेकिन इन समितियों का अंतिम उद्देश्य है की

कोई सजा नहीं लेकिन ये पूछताछ भ्रष्ट लोगों को या मनोरंजन के लिए उजागर करने के लिए अच्छी है।

जॉइंट पार्लियामेंट्री कमेटी की नियुक्ति, किसी विशेष मामले या विषय या धोखाधड़ी, किसी ऐसी चीज के बारे में पूछताछ करने के लिए की जाती है, जो राष्ट्र के लिए महत्वपूर्ण है।

जेपीसी के गठन का उद्देश्य

  • संसदीय निगरानी अधिक प्रभावी और कुशलतापूर्वक हो इसके लिये संसद को एक ऐसी एजेंसी की ज़रूरत होती है जिस पर संपूर्ण सदन का विश्वास हो।
  • अन्य बातों के साथ-साथ इस उद्देश्य की प्राप्ति संसद अपनी समितियों के माध्यम से करती है जिनमें उसके अपने कुछ सांसद होते हैं। इसके तहत संसद के समक्ष पेश किये गए कि

संयुक्त संसदीय समिति की शक्तियाँ क्या हैं?(What are the powers of Joint Parliamentary committee?)

  1. .JPC विशेषज्ञों से मौखिक या लिखित साक्ष्य एकत्र कर सकती है।
  2. संसदीय समितियों की कार्यवाही गोपनीय होती है। बहुसंख्यक राष्ट्र कृपया ध्यान दें कि इस प्रकार की समितियाँ खुले में काम करती हैं और दिन-प्रतिदिन आम जनता के लिए उपलब्ध है।
  3. आम तौर पर मंत्रियों को सबूत देने के लिए नहीं बुलाया जाता है
  4. JPC जांच से संबंधित सभी दस्तावेजों का निरीक्षण कर सकती है।
  5. JPC जांच के लिए इच्छुक पार्टियों को आमंत्रित कर सकती है।
  6. जेपीसी लोगों को उनके समक्ष पेश होने के लिए सम्मन भेज सकता है, यदि व्यक्ति सम्मन का पालन नहीं करता है तो उसे सदन की अवमानना माना जाता है।

जेपीसी का गठन कैसे होता है?

  • जेपीसी का गठन अनेक दलों के सदस्यों को मिलाकर किया जाता है। इस वज़ह से यह एक दलगत संरचना है जो संसद में दलों के ताकत के ज़रिये निर्धारित होती है।
  • इसका मतलब है कि समिति में अलग-अलग दलों से चुने हुए प्रतिनिधियों को उनके अनुपात के आधार पर चुना जाता है। यानी संसद में पार्टी के सदस्यों के अनुपात में पार्टी को प्रतिनिधित्व मिलेगा और यही वज़ह है कि किसी खास या विवादित मुद्दे पर पार्टियाँ जेपीसी की मांग करती हैं।
  • हालाँकि संयुक्त संसदीय समिति की रिपोर्ट कुछ प्रश्नों और विवादों से घिरी भी रहती है। फिर भी सरकार जेपीसी की सिफारिशों को महत्त्वपूर्ण मानती है और इसकी वज़ह यह है कि समिति काफी बारीकी से मुद्दे की छानबीन करती है।
  • कई अनियमितताओं और लापरवाही वाले कार्य केवल इसी भय से नहीं किये जाते हैं कि भविष्य में उसकी जाँच किसी संयुक्त संसदीय समिति से कराई जा सकती है।
  • हालाँकि विवादों को खत्म करने के इरादे से बनने वाली समिति का अंत भी आमतौर पर विवाद के साथ ही होता है लेकिन बावजूद इसके समिति का हमारे संसदीय प्रणाली में काफी प्रभावी और ख़ास महत्त्व है|

JPC के अन्य फुल फॉर्म

JPC KA FULL FORM –

JPC KA FULL FORM – Journal of Physical Chemistry

निष्कर्ष –

इस लेख में हमने आपको बताया है की JPC KA FULL FORM KYA HOTA HAI , (जेपीसी का फुल फॉर्म )और jpc से सम्बंधित सभी जानकारी आपको दी है उम्मीद है की आपको जानकारी पसंद आई होगी .

इन्हें भी देखें –

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *